चीन के वुहान लैब से कोरोनावायरस के लीक होने को लेकर

चीन के वुहान लैब से कोरोनावायरस के लीक होने को लेकर

 चीन के वुहान लैब से कोरोनावायरस के लीक होने को लेकर 

विवाद जारी है इस बीच मुहल्ले के साथ काम करने वाले न्यू यार के एक एनजीओ प्रमुख का वीडियो सामने आया है जिसमें वह बता रहे हैं कि कोरोनावायरस को लेकर किस तरह का काम चलाता वीडियो से पता चलता है कि वहां की लैब में कोरोनावायरस जैसा एक वायरस तैयार किया गया था जो जानलेवा था दरअसल न्यू यार किससे गैर-लाभकारी संगठन यानी एनजीओ इकोहेल्थ एयरलाइंस के प्रमुख पीटर 10,000 एक वीडियो सामने आने के बाद सवालों के घेरे में आ गए इकोहेल्थ एयरलाइंस वही संगठन है जो चीन के वुहान इंस्टीट्यूट आफ वायरोलॉजी के साथ मिलकर अगेन ऑफ फंक्शन संबंधी रिसर्च कर रहा था बटन को अमेरिकी सरकार के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इनफेक्शियस डिजीज से अनुदान मिला था जिसके प्रमुख अमेरिकी राष्ट्रपति जो वाइट अंकित पीस सलाहकार डॉ एंथोनी पहुंची है दद नेशनल पल्स की ओर से जारी वीडियो क्लिप में देखा जा सकता है कि ईगो हेल्थ एलाइंस के प्रमुख पीटर चीन में कोरोनावायरस को लेकर शोध के दौरान अपने सहयोगी यों के काम को लेकर एक ही भगा रहे थे अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पीटर इमर्जिंग इनफेक्शियस डिजीज 



एंड मेक विषय पर आयोजित कार्यक्रम में वह आपके साथ 

काम करने की बात स्वीकार कर रहे हैं जबकि डॉ पाउची मुहाने सूट ऑफ बायोलॉजी में अगेन ऑफ फंक्शन रिसर्च को फंडिंग करने से बार-बार इनकार करते रहे हैं वीडियो में वायरस के बारे में बताते हुए पीटर ने वायरस में स्पाइक प्रोटीन डालने की प्रक्रिया के बारे में बताया जो उनके सहयोगी में चीन में किया इसका मतलब यह देखना था कि क्या यह मानवीय कोशिकाओं से जुड़ता है मैडम ने बताया कि जब आप एक वायरस की सिंह के सिंह जान लेते हैं और जो एक गंदे और रोगजनक की तरह दिखता है जैसा कि हमने साथ के साथ किया उन्होंने बताया कि हमने चमका दलों में कोरोनावायरस पाया जो बिल्कुल साल की तरह ही दिखता था इसलिए हमने स्पाइक प्रोटीन की सिंह के सिंह की प्रोटीन को कोशिका के साथ जोड़ दिया फिर हम वैसे तो मैंने यह काम किया लेकिन चीन में मेरे साथियों ने यह काम किया तो वही पीटर का यह वीडियो सामने आने के बाद डॉक्टर पाउची के दामों को लेकर सवाल और बड़ा हो गया है अब सवाल यह उठ रहा है कि क्या नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एनर्जी एंड इनफेक्शियस डिजीज यानी एनआईए आईडी फौजी के मुहाने स्वीट ऑफ बायोलॉजी से गहरे आर्थिक 




रहते थे पीटर या बाई वाला संगठन इकोहेल्थ एयरलाइंस 


  • चीनी लैब को फंडिंग करने वालों में से एक था दरअसल डॉक्टर फौजी और पीटर के बीच ईमेल पर हुई बातचीत को लेकर पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पार्टी रिपब्लिकन ने सवाल खड़े किए डॉ पहुंची लैब से कोरोनावायरस ने की चोरी को नकारते रहे मुहल्ले आपके साथ काम कर चुके पीटर ने इसके लिए डॉक्टर ताऊ जी का आभार जताया था ब्यूरो 


0 टिप्पणियाँ

thanks for your valuable comment !

एक टिप्पणी भेजें

thanks for your valuable comment !

Post a Comment (0)

और नया पुराने